E Shram Card : सभी बच्चों को मिलेगा ई श्रम कार्ड से फायदा, ई श्रम कार्ड स्कालरशिप योजना तुरंत करे आवेदन

E Shram Card : सभी बच्चों को मिलेगा ई श्रम कार्ड से फायदा, ई श्रम कार्ड स्कालरशिप योजना तुरंत करे आवेदन

E Shram Card : सभी बच्चों को मिलेगा ई श्रम कार्ड से फायदा, ई श्रम कार्ड स्कालरशिप योजना तुरंत करे आवेदन
E Shram Card : सभी बच्चों को मिलेगा ई श्रम कार्ड से फायदा, ई श्रम कार्ड स्कालरशिप योजना तुरंत करे आवेदन

E Shram Card : भारत सरकार असंगठित क्षेत्र के सभी ई श्रम कार्ड धारकों को विभिन्न विभिन्न प्रकार की सुविधाएं प्रदान कर रही है जिन लोगों ने अपने श्रम कार्ड बनवाया है उन लोगों को ई श्रम कार्ड की योजनाओं का कई तरीके से लाभ मिल रहे हैं ई श्रम कार्ड वालों को सरकार एक और फायदा दे रही है जिसने अपने ई श्रम कार्ड बनवाया है उन सभी के बच्चों को अच्छी पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप प्रदान कर रही है |

आपको बता दें कि भारत सरकार देश के भविष्य को ध्यान में रखते हुए समय-समय पर कई अहम फैसले ले रही है सरकार द्वारा प्रयास किया जा रहा है कि नागरिकों की जाती चाहे जो भी हो उन्हें अपना जीवन जीने का अधिकार है इसे देखते हुए भारत सरकार की योजनाएं भी चला रही है जिसमें समाज के हर जाति के लोगों को लाभ मिल रहा है

सभी ई श्रम कार्ड धारकों को ऐसे मिलेगा लाभ

  • बच्चों को छात्रवृत्ति और अच्छी शिक्षा

अब सरकार उन लोगों के बच्चों को छात्रवृत्ति और अच्छी शिक्षा की सुविधा प्रदान करेगी, जिन्होंने ई-श्रम कार्ड बनवाया है। इससे बच्चों का शैक्षिक स्तर बहुत तेजी से विकसित होगा। ऐसे बच्चे अच्छी शिक्षा प्राप्त करने में बहुत आगे बढ़ेंगे। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए आपको सबसे पहले ई-श्रम पोर्टल में अपना पंजीकरण कराना अनिवार्य है।

  • 2 लाख रूपए तक मिलेगा स्वास्थ्य बीमा

अगर आपके पास ई-श्रम कार्ड है तो सरकार आपको 2 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा देगी। इसके जरिए आप किसी भी सरकारी या गैर सरकारी अस्पताल में अपना मुफ्त इलाज करा सकते हैं। आपको ज्यादा इधर-उधर भटकने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी। वहीं जो लोग पैसे की कमी के कारण अपना उचित इलाज नहीं करा पा रहे हैं उन्हें काफी राहत मिलेगी।

  • प्रधानमंत्री आवास योजना का मिलेगा लाभ

अगर आपने अपना ई श्रम कार्ड बनवा लिया है तो आपको प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिलेगा। जिससे आप आसानी से अपने लिए पक्का मकान बनवा सकते हैं। इस काम के लिए सरकार की ओर से मजदूरों को फंड मुहैया कराया जाएगा. यह राशि सीधे उनके बैंक खाते में भेजी जाएगी।

  • महिलाओं को मिलेगी सिलाई मशीन

ई-श्रम कार्ड रखने वाली महिलाओं को सरकार की ओर से सिलाई मशीन उपलब्ध कराई जाएगी। इस मशीन से महिलाएं घर बैठे अपना रोजगार भी शुरू कर सकती हैं। जिससे वह अपना और अपने परिवार का भरण पोषण कर सके। इतना ही नहीं उन्हें रोजगार के लिए इधर-उधर भटकना भी नहीं पड़ेगा।

  • व्यापार शुरू करने के लिए दी जाएगी आर्थिक सहायता

अगर आप अपना खुद का रोजगार शुरू करना चाहते हैं और आपने ई श्रम पोर्टल में अपना पंजीकरण करा लिया है तो आपको इसका बहुत बड़ा लाभ मिलेगा। आपको अपना रोजगार शुरू करने के लिए चिंता करने की जरूरत नहीं है। क्योंकि इसके लिए पीएम मुद्रा लोन योजना के तहत सहायता प्रदान की जाती है।

E Shram Card में अपना रजिस्ट्रेशन कैसे करें

  • ई-श्रम पोर्टल के ऑफिशियल वेबसाइट https://www.eshram.gov.in/  पर जाएं।
  • फिर होमपेज पर, “ई-श्रम पर पंजीकरण” पर लिंक करें।
  • https://register.eshram.gov.in/#/user/self पर क्लिक करें।
  • स्व-पंजीकरण पर, उपयोगकर्ता को अपना आधार लिंक मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा।
  • कैप्चा दर्ज करें और चुनें कि क्या वे कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (epfo) के सदस्य हैं या
  • कर्मचारी राज्य बीमा निगम (esic) विकल्प और send otp पर क्लिक करें।
  • उसके बाद पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए बैंक खाता विवरण आदि दर्ज करें और आगे की प्रक्रिया का पालन करें
  • इसके बाद आपको जरूरी दस्तावेज अपलोड करने होंगे और अंत में अपने फॉर्म को सबमिट बटन पर क्लिक कर ऑनलाइन जमा कर देना होगा i

E shram card बनाने के लिए कौन कौन से डॉक्यूमेंट देने होंगे-

  • नाम और व्यवसाय
  • पते का विवरण
  • शैक्षणिक क्वालिफिकेशन
  • कौशल विवरण
  • पारिवारिक विवरण
  • aadhar number/aadhaar card
  • आधार से जुड़ा एक वैध मोबाइल नंबर।
  • ifsc कोड के साथ बैंक खाता संख्या

E sharm पोर्टल पर कौन-कौन रजिस्ट्रेशन करवा सकता है?

  • कारपेंटर    मिडवाइफ
  • रिक्शा चालक
  • लेदर वर्कर
  • मजदूर
  • अखबार विक्रेता
  • घरेलू कामगार
  • नाई
  • फल एवं सब्जी विक्रेता
  • मनरेगा कामगार
  • csc केन्द्र संचालक
  • खेतों में काम करने वाले मजदूर
  • आशा वर्कर
  • बिल्डिंग एंड कंस्ट्रक्शन वर्कर

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page