Ration Card Update: सरकार ने जारी किया नया आदेश, सुनकर खुशी से झूम उठे कार्डधारक

Ration Card Update: सरकार ने जारी किया नया आदेश, सुनकर खुशी से झूम उठे कार्डधारक

Ration Card Update: सरकार ने जारी किया नया आदेश, सुनकर खुशी से झूम उठे कार्डधारक

Ration Card Update : राशन कार्ड सरेंडर और अनाज वसूली की खबर ने लोगों को परेशान कर रखा है। अगर आप भी इस बात को लेकर असमंजस में हैं कि क्या सरकार आपसे उबर नहीं पाएगी? तो अब निश्चिंत हो जाइए। दरअसल, कुछ समय पहले कई मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया था कि अपात्र राशन कार्ड धारकों को सरेंडर किया जा रहा है और यूपी की योगी सरकार द्वारा वसूल किया जा सकता है, साथ ही ऐसे लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। , अब सरकार ने इसको लेकर बड़ा बयान दिया है.

सरेंडर करने पर कोई आदेश नहीं

सरकार ने उन अफवाहों पर विराम लगा दिया है कि यह खबर लाभार्थियों में तेजी से फैली और कई जिलों में राशन कार्ड सरेंडर करने के लिए लोगों की कतार लग गई. लेकिन सरकार की ओर से राशन कार्ड सरेंडर करने या रद्द करने का कोई आदेश नहीं दिया गया है.

लोगों को बड़ी राहत

राज्य के खाद्य आयुक्त ने बताया कि सरकार ने आदेश दिया है कि ऐसा आदेश किसने दिया इसका पता लगाकर उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए. सरकार के इस ताजा आदेश के बाद मुफ्त राशन का लाभ पाने वालों ने राहत की सांस ली है.

जानिए क्या है नियम?

दरअसल, घरेलू राशन कार्डों की ‘पात्रता / अपात्रता मानदंड 2014’ में निर्धारित किया गया था. उसके बाद कोई परिवर्तन नहीं किया गया. इसके अलावा साल 2011 की जनगणना के आधार पर ही राशन कार्ड का आवंटन हुआ है. राशन कार्ड धारक को (Ration Card Holder) पक्का घर होने, बिजली कनेक्शन या एकमात्र हथियार लाइसेंस धारक या मोटर साइकिल मालिक होने और मुर्गी पालन / गाय पालन में लगे होने के आधार पर अपात्र घोषित नहीं किया जा सकता. इसके लिए सरकार ने आपका पक्ष साफ़ कर दिया है.

कोई वसूली नहीं होगी

इतना ही नहीं लोगों में वसूली का भी डर था, जिस पर सरकार ने कहा है कि (राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2013 के अनुसार) अपात्र कार्डधारकों से वसूली का कोई प्रावधान नहीं है। शासन स्तर या खाद्य आयुक्त कार्यालय से कोई वसूली आदेश जारी नहीं किया गया है, ऐसे में अगर आप भी मुफ्त राशन के लाभार्थी हैं तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You cannot copy content of this page