Yello Ration Card: पीले राशन कार्ड वाले ध्यान दें, केंद्र सरकार ने किया फ्री राशन के नियमों में किया बड़ा बदलाव

Yello Ration Card: पीले राशन कार्ड वाले ध्यान दें, केंद्र सरकार ने किया फ्री राशन के नियमों में किया बड़ा बदलाव

Yello Ration Card: पीले राशन कार्ड वाले ध्यान दें, केंद्र सरकार ने किया फ्री राशन के नियमों में किया बड़ा बदलाव

भारत में मुफ्त राशन के लिए भी एक कैटेगरी बनाई गई है। राशन कार्ड तीन प्रकार के होते हैं। सफेद, लाल और पीला। लेकिन अब सिर्फ दो राशन कार्ड का ही इस्तेमाल हो रहा है। पहला सफेद है जो खाद्य सुरक्षा के अंतर्गत आता है और दूसरा पीला है, जो गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वालों को दिया जाता है। अगर आपके पास भी पीला राशन कार्ड है और मुफ्त राशन लेते हैं तो यह खबर आपके बहुत काम की है। केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा राशन के नियमों में बड़े बदलाव किए गए हैं।

गेहूँ की जगह चावल

केंद्र सरकार ने कोरोना काल से ही देश के सभी लोगों को मुफ्त राशन देना शुरू कर दिया है. सरकार राज्यों में पीले राशन कार्ड धारकों को मुफ्त गेहूं और चावल देती है। यह भी पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना के जरिए दिया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नए बदलावों के साथ इस योजना में गेहूं की जगह चावल दिया जाएगा. नियमों में बदलाव के बाद जून से आपको गेहूं की जगह चावल दिए जाएंगे।

तीन राज्यों में रुका गेहूं

मोदी सरकार ने गरीब कल्याण अन्न योजना से तीन राज्यों को मिलने वाले मुफ्त गेहूं पर रोक लगा दी है. मई से सितंबर तक मिलने वाले गेहूं के कोटे में भारी कमी की गई है। इस बदलाव के बाद यूपी, बिहार या केरल में मुफ्त राशन से गेहूं हटा दिया गया है। दिल्ली, गुजरात, झारखंड, एमपी, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में मुफ्त राशन के तहत गेहूं की सीमा कम कर दी गई है। इन राज्यों में गेहूं और चावल दोनों दिए जाएंगे। बाकी राज्यों में अभी तक कोई बदलाव नहीं किया गया है।

बहुत कम गेहूं खरीद

यूपी-बिहार में गेहूं का समय से पहले खत्म होना सरकार पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है। इस बार गेहूं की खरीद बहुत कम हुई है। खाद्य सचिव सुधांशु पांडे के मुताबिक इस बार 5 लाख मीट्रिक टन चावल जनता को दिया जाएगा. यह संशोधन केवल PMGKAY पर लागू है। कुछ राज्यों ने तो गेहूं काटकर चावल देना भी शुरू कर दिया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page